उत्तरप्रदेश, पंजाब व हरियाणा से राजस्थान में हो रही है पेट्रोल और डीजल की तस्करी!

देश के कई शहरों में पेट्रोल के दाम 100 रुपए प्रति लीटर के पार हो गए हैं। ऐसे में कई राज्यों में डीजल के साथ पेट्रोल की भी तस्करी बढ़ गई है। इनमें तस्कर सस्ते दामों वाले राज्यों से तेल लाकर महंगे दामों वाले राज्यों में बेच रहे हैं। जैसे राजस्थान में यूपी, पंजाब और हरियाणा के सीमावर्ती जिलों से रोज करीब 14.27 करोड़ रु. के 16 लाख लीटर पेट्रोल- डीजल की तस्करी हो रही है।

 Update - Mahendra Kudiya 

यह अलवर, जयपुर, भरतपुर, झुंझुनू, सीकर, चूरू, श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़ व बीकानेर तक सप्लाई होता है। तस्करी के इस खेल को सामने लाने के लिए भास्कर के 12 रिपोर्टर ने तीन राज्यों के सात जिलों में पड़ताल की। उन्होंने इसके लिए दो दिन तक बॉर्डर पर नजर रखी, साथ ही दोनों ओर के पंप संचालकों से भी बात की। इन दिनों राज्य की सीमाएं लॉक हैं, फिर भी पेट्रोल और डीजल से भरी श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, अलवर, भरतपुर के नंबरों की गाड़ियां बेखौफ गुजरती हैं। इस कारण राजस्थान के सीमावर्ती गांवों के पंप बंद हो रहे हैं, जबकि दूसरी तरफ नए खुल रहे हैं।

इस तस्करी से राजस्थान सरकार को टैक्स के रूप में रोज 3.34 करोड़ का नुकसान हो रहा है, यानी महीने का 100 करोड़ रु.। यानी पेट्रोल-डीजल की ये तस्करी बंद हो जाए और लोग अपने ही जिलों के पंपों से तेल खरीदने लगें, तो सरकार के खजाने में हर महीने 100 करोड़ रुपए आ जाएंगे।


ऐसे समझें 100 करोड़ के नुकसान का गणित

हर दिन राजस्थान को नुकसान
87 लाख + 2.47 कराेड़ = 3.34 कराेड़
हर महीने राजस्व का नुकसान
3.34 कराेड़×30 = 100.20 कराेड़

श्रीगंगानगर/ हनुमानगढ़
सबसे महंगा पेट्रोल (105.73) यहीं, रोज 5.60 लाख ली. तस्करी

देश का सबसे महंगा पेट्राेल व डीजल श्रीगंगानगर में है। श्रीगंगानगर जिले के मुकाबले पंजाब में पेट्राेल 9.51 रुपए और डीजल 10.61 रु. सस्ता मिलता है। यही वजह है कि श्रीगंगानगर व हनुमानगढ़ में तस्करी नेटवर्क के जरिए रोज 5.60 लाख ली. तेल आता है। सीमा से सटे पंजाब के इलाके में 14 पंप हैं, जिनकी महीने की पेट्रोल-डीजल की बिक्री ढाई करोड़ ली. है। श्रीगंगानगर जिले में 150 पंप हैं, जिनकी बिक्री महीने की करीब डेढ़ करोड़ लीटर है। 700 से 800 वाहन रोज पंजाब से डीजल-पेट्राेल लेकर उसकी सप्लाई इस इलाके में कर रहे हैं।

हरियाणा से रोज आ रहा एक लाख लीटर डीजल

कुछ साल पहले हरियाणा से अवैध शराब की तस्करी शेखावाटी के जिलों में होती थी, लेकिन अब डीजल-पेट्रोल तस्करी का खेल जोर-शोर से चल रहा है। ये गाड़ियां पुलिस थानों व आठ चौकियों के सामने से गुजरती हैं, लेकिन इन्हें रोकने वाला कोई नहीं है।

किराना और पंक्चर की दुकानों पर हो रही बिक्री

यूपी और हरियाणा से भरतपुर में रोज करीब 3.50 लाख ली. तेल आ रहा है। यूपी सीमा से रोज 70 हजार ली. पेट्रोल और 2 लाख ली. डीजल, जबिक हरियाणा सीमा से एक लाख लीटर पेट्रोल-डीजल की तस्करी हो रही है। किराना, पंक्चर की दुकानों तक पर ये बिक रहे हैं।