सतीश पूनिया का अशोक गहलोत पर हमला, कहा भय का माहौल बना रहे हैं मुख्यमंत्री

Jaipur: भाजपा ने बुधवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) पर निशाना साधते हुए कहा कि वह आए दिन केन्द्र सरकार पर तथ्यहीन व झूठे आरोप लगा रहे हैं और बच्चों में कोरोना वायरस संक्रमण फैलने की आशंका भरे बयान देकर भय का माहौल बना रहे हैं.

 Update - Mahendra Kudiya 

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सतीश पूनियां (Satish Poonia) ने ट्वीट किया, 'हम बच्चों को बचा नहीं पाएंगे' यह कहकर मुख्यमंत्री न केवल अपने गैर जिम्मेदार होने का प्रमाण दे रहे हैं, बल्कि राज्य में भय का माहौल पैदा कर रहे हैं.' पूनियां ने कहा कि देशभर के डॉक्टर, बच्चों में संक्रमण के घातक न होने की बात कह रहे हैं और राजस्थान की जनता अपेक्षा करती है कि तीसरी लहर आए ही नहीं तथा यदि आ भी जाए तो मुख्यमंत्री बताएं कि उन्होंने क्या तैयारी है?

"हम बच्चों को बचा नहीं पाएंगे" यह कहकर मुख्यमंत्री जी न केवल अपने गैर जिम्मेदार होने का प्रमाण दे रहे हैं वरन प्रदेश में Panic Create कर रहे हैं।

देश के डॉक्टर संक्रमण के घातक ना होने के संकेत कर रहे है; और यदि तीसरी लहर आती है तो आपकी प्रदेशवासियों को बचाने की क्या तैयारी है?

भाजपा नेता ने कहा कि यदि भरोसेमंद सेनापति की तरह मुख्यमंत्री लोगों को भरोसा दिलाते कि स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत किया जाएगा तो इससे लोगों का मनोबल बढ़ता, लेकिन मुख्यमंत्री के बयानों से लगता है कि वह कोरोना प्रबंधन एवं शासन करने की इच्छाशक्ति खो चुके हैं.

एक भरोसेमंद सेनापति की तरह आप पर प्रदेश को भरोसा दिलाते हैं कि स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत किया जाएगा; भरोसा दिलाते तो लोगों का मनोबल बढ़ता और हर प्रदेशवासी के उपचार की व्यवस्था होगी। लेकिन मुख्यमंत्री जी लगता है कि आप कोरोना के प्रबंधन एवं शासन करने की इच्छा शक्ति खो चुके हैं।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री का यह बयान कांग्रेस के टूलकिट संदर्भ की ओर इशारा कर रहा है. पूनियां ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के कुशल नेतृत्व में भारत मजबूती से कोरोना से लड़ाई लड़ रहा है और जल्द ही कोरोना परास्त होगा.

मुख्यमंत्री जी का यह बयान कांग्रेस के #ToolKit के संदर्भ की ओर इशारा कर रहा हैं।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार सभी राज्यों की लगातार मदद कर रही है जबकि मुख्यमंत्री गहलोत अपनी विफलताएं, मौतों व मरीजों के आकंड़े छिपाने के लिए केन्द्र सरकार पर झूठे आरोप लगाते हैं और राज्य के लोगों को गुमराह करने की कोशिश करते हैं.