अब पुलिस जवानों की 'शहादत' को लेकर हनुमान बेनीवाल ने गहलोत सरकार पर साधा निशाना

राजस्थान में कानून व्यवस्था को लेकर भाजपा लगातार आक्रामक रुख अपनाए हुए है। दौसा के शंभू पुजारी मौत प्रकरण पर सप्ताह भर तक चले गरमाए माहौल को लेकर गहलोत सरकार निशाने पर रही ही थी कि अब भीलवाड़ा में तस्करों की फायरिंग से पुलिस के दो जवानों की मौत का मामला तूल पकड़ने लगा है। भाजपा के साथ ही रालोपा ने भी सरकार की कार्यशैली को लेकर एक बार फिर सवाल खड़े करने शुरू कर दिया हैं।

 Update- Ravindra Choudhary 

भीलवाड़ा में दो जवानों की मौत मामले में रालोपा सांसद हनुमान बेनीवाल ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। बेनीवाल सहित अन्य नेताओं ने भी बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर सरकार को कटघरे में लेते हुए आड़े हाथ लिया है।

इंटेलिजेंस फेल्योर की बानगी है घटना: हनुमान बेनीवाल

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के मुखिया सांसद हनुमान बेनीवाल ने पूरी घटना को इंटेलिजेंस फेल्योर बताया है। सांसद ने कहा कि ये घटना ऐसे समय में हुई है जब एक दर्जन मंत्री और 40 विधायक इस वक्त भीलवाड़ा जिले में हैं। पुलिस का जो तंत्र है वो रात को एक सिपाही शहीद हो जाने के बाद भी गंभीर नहीं होता और कुछ समय बाद ही एक और सिपाही अपराधियों की गोलियों से शहीद हो जाता है। राजस्थान प्रदेश में बदमाश बेख़ौफ़ हैं और यहाँ जंगलराज की स्थिति बनी हुई है।