सांसद हनुमान बेनवाल ने किया डांगियावास दोहरे हत्याकांड को लेकर पुलिस कमिशनरेट का घेराव - गांव दस्तक

सांसद हनुमान बेनवाल ने किया डांगियावास दोहरे हत्याकांड को लेकर पुलिस कमिशनरेट का घेराव,

महेन्द्र कड़िया, राजस्थान 

जोधपुर के डांगियावास इलाके में दो युवकों की हत्या का मामला, बेनीवाल ने की हत्यारों की गिरफ्तारी के साथ मुआवजे की मांग, सरकार और पुलिस व्यवस्था पर लगाया सवालिया निशान, कहा- राजस्थान की जनता गहलोत-वसुंधरा गठजोड़ से त्रस्त

सांसद हनुमान बेनवाल ने किया डांगियावास दोहरे हत्याकांड को लेकर पुलिस कमिशनरेट का घेराव,

सूर्यनगरी जोधपुर के डांगियावास इलाके के दो युवकों का अपहरण और उसके बाद हत्या का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है. इसी कड़ी में नागौर सांसद हनुमान बेनवाल और जोधपुर पहुंचे और अस्पताल की मोर्चरी के बाद पुलिस आयुक्त कार्यालय का घेराव किया. यहां भारी संख्या में लोगों के साथ हनुमान बेनीवाल धरने पर बैठ गए और सरकार की कानून व्यवस्था पर करारा आघात किया. हनुमान बेनीवाल ने हत्यारों की तुरंत गिरफ्तारी के साथ मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये के मुआवजे की मांग की है. इससे पहले परिजनों ने मांगें पूरी नहीं होने तक शव लेने से मना कर दिया. इस दौरान धरना स्थल पर ‘अशोक गहलोत मुर्दाबाद’ और ‘राजस्थान पुलिस होश में आओ’ के जमकर नारे लगे.

दरअसल, जिले के डांगियावास इलाके के बुधवार को पांच युवकों का अपहरण कर लिया गया था. पुलिस की मानें तो अपहरण और हत्या की वजह तस्करी की अफीम है जो मणिपुर से लाई गई थी. आरोपियों ने युवकों को अगवा कर उनसे अफीम लूट ली और उनमें से दो युवकों महेंद्र बोयल और भैराराम डूडी की हत्या कर दी. आरोपी उनके शव जोधपुर शहर के बासनी इलाके में अलग अलग स्थानों पर फेंककर फरार हो गए. वारदात के बाद इलाके में सनसनी फैल गई थी. पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी हुई है. फिलहाल कोई सुराग नहीं लग पाया है.

मामले के सामने आने के बाद रालोपा चीफ और नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल शुक्रवार को सैंकड़ों समर्थकों के साथ जोधपुर पहुंच गए. इधर, परिजनों ने हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर शव लेने से मना कर दिया और एमडीएम अस्पताल परिसर में धरने पर बैठ गए. उनके समर्थन में आज नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल समर्थकों के साथ अस्पताल में धरना स्थल पर बैठ गए. बेनीवाल ने मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये के मुआवजे और आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की मांग की. हालात को देखते हुये अस्पताल परिसर को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया और डीसीपी आलोक श्रीवास्तव समेत पुलिस के अन्य आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए. दोनों युवकों के शव एमडीएम अस्पताल की मोर्चरी में रखे हैं.


इसके बाद हनुमान बेनीवाल सैंकड़ों समर्थकों के साथ जोधपुर पुलिस कमिशनरेट का घेराव करने पहुंचे और धरने पर बैठ गए. इस दौरान धरना स्थल पर ‘अशोक गहलोत मुर्दाबाद’ और ‘राजस्थान पुलिस होश में आओ’ के जमकर नारे लगे. यहां सांसद बेनीवाल ने प्रदेश की पुलिस को भी चेताते हुए कहा कि अगर न्याय नहीं मिला तो आगामी दो या तीन दिन में एक लाख समर्थकों के साथ सड़क पर उतरेंगे और सरकार से न्याय की गुहार लगाएंगे.

मीडिया से बात करते हुए सांसद बेनीवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में राजस्थान अपराधियों की पनाहगाह बन चुका है. अपराधों में राजस्थान यूपी को पीछे छोड़ पहले पायदान पर खड़ा है और सरकार के साथ राजस्थान पुलिस भी अपराधों पर नियंत्रण लगाने में पूरी तरह फैल हो चुकी है.

नागौर सांसद ने अपनी मांगे दोहराते हुए कहा कि जोधपुर और उदयपुर संभाग की पुलिस की अपराधियों के साथ सांठगांठ है, ऐसे में बेनीवाल ने ऐसे पुलिसकर्मियों को हटाने की बात भी कही है. उन्होंने कहा कि राजस्थान की जनता 20 साल के गहलोत-वसुंधरा गठजोड़ से त्रस्त हो चुकी है, ऐसे में आरएलपी किसान परिवार को न्याय दिलाने के लिए हर तरह की लड़ाई लड़ने को तैयार है.