बनारस मे हेलमेट का चालान होने पर लोगों को दे रहे हैं निशुल्क हेलमेट के साथ 5 लाख की दुर्घटना बीमा. हेलमेट मैन राघवेंद्र कुमार.

बनारस मे हेलमेट का चालान होने पर लोगों को दे रहे हैं निशुल्क हेलमेट के साथ 5 लाख की दुर्घटना बीमा. हेलमेट मैन राघवेंद्र कुमार.

अगर जिन का चालान हो गया है हेलमेट का और उन्होंने राजस्व में पैसा जमा कर दिया है. तो वह अपनी रसीद लेकर बीएचयू ट्रामा सेंटर नगवा पुलिस चौकी के पास सुबह 10:00 बजे से लेकर शाम 5:00 बजे तक हेलमेट मैन राघवेंद्र कुमार उन सभी लोगों को एक हेलमेट के साथ 5 लाख की दुर्घटना बीमा भी दे रहे हैं.

उनका मकसद है सरकार अपना राजस्व भरने के लिए लोगों की प्रतिदिन मास्क के नाम पर और हेलमेट के नाम पर लाखों रुपए वसूल कर रही है लेकिन बदले में जनता को कुछ दे नहीं रही. और सड़क पर प्रतिदिन चालान के नाम पर आम लोगों पुलिस प्रतिदिन कानून का हवाला देकर प्रताड़ित करके अवैध वसूली भी करने में लगी हुई है. जो कहीं ना कहीं सड़कों पर प्रशासन द्वारा दोहरा मापदंड दिख रहा है. जो लॉकडाउन के समय पुलिस सड़क पर भूखे लोगों को खाना खिलाते देखी जाती थी अब कुछ और ही दिख रही है.

इसलिए हेलमेट  मैन लोगों की मदद करने के लिए जिन का चालान हो गया है उन्हें निशुल्क हेलमेट दे रहे हैं और साथ में पांच लाख की बीमा भी. ताकि भविष्य में दुर्घटना होने पर लोगों को आर्थिक सहायता मिल सके. हेलमेट मैन अपना अभियान बिना किसी से मदद लिए हुए कार्य करते रहते हैं.

हेलमेट मैन पिछले 6 साल से सड़क पर लोगों को हेलमेट बांटने का कार्य कर रहे हैं और जरूरतमंद बच्चों को निशुल्क पुस्तकें भी देते रहते हैं. ताकि भारत संपूर्ण नागरिक साक्षर बने और देश सड़क दुर्घटना मुक्त बने.


ब्लड बैंक में खून कम नहीं पड़ता जब सर में हेलमेट होता. चालान के बदले हेलमेट दीया होता तो घर का चिराग जिंदा होता. ~ हेलमेट मैन राघवेंद्र कुमार

हेलमेट मैन मतदाताओं को हेलमेट देकर कर रहे हैं जागरूक.

बिहार बक्सर जिले में सड़कों पर इन दिनों बिना हेलमेट चलने वालों को हेलमेट मैन राघवेंद्र कुमार उन्हें रोककर हेलमेट दे रहे हैं और साथ में 5 लाख की दुर्घटना बीमा भी निशुल्क. भविष्य में कोई दुर्घटना होने पर उस परिवार को आर्थिक सहायता के लिए कष्ट ना हो.

साथ में मतदान करने की शपथ भी दिला रहे हैं. 28 अक्टूबर को पहले चरण का मतदान होना है बक्सर जिले में बिहार के विकास के लिए जात पात से ऊपर उठकर  जनता राज्य के विकास के लिए मतदान करें. जो आने वाली नई सरकार जनता के हित के लिए कार्य करें. हेलमेट मैन ने कहा सड़क सुरक्षा की मजबूती के लिए चालान के बदले आम जनता को सरकार हेलमेट देने का कार्य करें तो दुर्घटना के साथ मृत्यु दर में भी कमी आएगी.

हेलमेट नहीं होने की वजह से दुर्घटना होने पर अस्पताल में ब्लड की कमी हो जाती है जो आए दिन समस्या बनी रहती है.

सुविधा नहीं मिलने की वजह से लोगों की मृत्यु हो जाती है.

रक्तदान हम आसानी से करते हैं जो दूसरों की सुरक्षा के लिए वहीं दूसरी तरफ बिना हेलमेट टू व्हीलर चालक को समझाने में असफल रहते हैं. जो आए दिन दुर्घटना में बढ़ोतरी की वजह से सभी अस्पतालों में ब्लड की समस्या हमेशा बनी रहती है.

इसका एक ही समाधान है दुर्घटना में कमी लाने के लिए हेलमेट चालान वाले लोगों को राजस्व भरने की जगह उन्हें हेलमेट दिया जाए. जो कार्य सरकार या प्रशासन को करना चाहिए वह कार्य हेलमेट मैन अपने दोस्त की मृत्यु के बाद पिछले 6 साल से कार्य कर रहे हैं. जो अपने खर्च से अब तक 42000 हजार हेलमेट बांट चुके हैं, जो दूसरे घरों का चिराग बचाने का कार्य करते हैं.