भाजपा की टिकट वितरण कोर कमेटी में एक भी जाट नेता शामिल नहीं, जबकि सभी प्रमुख जातियों को मिली जगह

   

भाजपा कोर कमेटी में जहां बड़े-बड़े दिग्गज वह हर जाति को जगह दी गई है. किसान कौम के नाम से मशहूर जाट समाज से कोई नेता राजस्थान टिकट वितरण को लेकर बनी कोर कमेटी में नहीं है. इसको लेकर राजस्थान के जाट समुदाय में रोष व्याप्त है. भाजपा कोर कमेटी में एक भी जाट नेता शामिल नहीं. दरअसल, राजस्थान चुनाव को लेकर बनी कोर कमेटी में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, ओमप्रकाश माथुर, प्रदेशध्यक्ष मदनलाल सैनी, केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, अर्जुन राम मेघवाल, संगठन महामंत्री चंद्रशेखर, प्रभारी अविनाश राय खन्ना, राजेंद्र सिंह राठौड़, अशोक परनामी, गुलाब चंद कटारिया, सह संगठन मंत्री वी सतीश शामिल है. अमित शाह के घर में फाइनल मीटिंग राजस्थान की कोर कमेटी में राजपूत, कायस्थ, माली, ब्राह्मण, जैन और दलित समुदाय से जुड़े नेताओं को शामिल किया गया है. वहीं जाट समाज से कई कद्दावर नेता होने के बावजूद एक भी नेता को कोर कमेटी में शामिल नहीं किया गया है. वर्तमान में जाट समाज से बाड़मेर-जैसलमेर सांसद कर्नल सोनाराम , राज्यसभा सांसद रामनारायण डूडी, केंद्रीय मंत्री सीआर चौधरी, झुंझुनू सांसद संतोष अहलावत, सीकर सांसद स्वामी सुमेधानंद, पूर्व सांसद राम सिंह कस्वा उनके पुत्र राहुल कस्वा जैसे वरिष्ठ नेता शामिल है. वहीं 27 के करीब विधायक जाट समाज से विधानसभा में प्रतिनिधित्व कर रहे है. जहां एक तरफ कांग्रेस नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी को दर्जा देकर कोर कमेटी में मुख्य स्थान दे रही है. वहीं भाजपा में जाट समाज से जुड़े नेताओं को कोर कमेटी में शामिल न कर दरकिनार कर रही है.