हनुमान बेनीवाल ने बताया मोदी के बजट को गोलमाल (जुमला) वाला बजट

केन्द्र की मोदी सरकार ने अपना अंतरिम बजट पेश कर दिया गया. जहां एक तरफ इस बजट को लेकर लोग लोकसभा चुनाव से पहले चुनावी बजट मान रहे हैं. वहीं कुछ मध्य वर्ग के लोग इसे फायदे वाला बजट मान रहे हैं. लेकिन राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और खींवसर से विधायक हनुमान बेनीवाल ने इस बजट को किसानों के साथ धोखा करने वाला बजट करार दिया है.

खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल ने अंतरिम बजट पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि चुनाव के मद्देनजर इस बजट को पेश किया गया है. यह चुनावी बजट है आम जनता को कोई फायदा नहीं होने वाला है. बेनीवाल ने इस गोलमाल और आकड़ों का मायजाल जैसा बजट क़रार दिया है.


बेनीवाल ने कहा कि किसानों का 6 हजार सालाना से क्या होगा. देश में बढ़ते जा रहे बेरोजगारों को रोजगार के बारे में मोदी सरकार ने अपने अंतरिम बजट में कुछ भी राहत देने वाला कदम नहीं उठाया. साथ ही बेनीवाल ने कहा कि छोटे किसानों को भी दो हैक्टर जमीन वाले किसानों को हर साल 6000 रुपए खाते में डालने का मोदी सरकार ने अंतरिम बजट में एलान करने पर किसानों को सीधा कोई फायदा नहीं मिल पाएगा. महज लोक लुभावन वाला बजट करार देते हुए विधायक ने कहा कि सम्पूर्ण कर्ज माफी और रोड टैक्स माफी के बारे में अंतरिम बजट में कुछ विशेष नहीं किया गया है. साथ विधायक हनुमान बेनीवाल ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि बजट में टैक्स से भले कुछ फायदा हो लेकिन किसान और युवा वर्ग को इस बजट में कुछ खास देखने को नहीं मिला. https://www.amazon.in/gp/product/B077PWK5QD/ref=as_li_tl?ie=UTF8&tag=mahi19990f-21&camp=3638&creative=24630&linkCode=as2&creativeASIN=B077PWK5QD&linkId=b41589d7726c13af8678c9175e6e189e इस बजट में किसानों के साथ बड़ा मजाक किया गया. सालाना 6000 रुपए की आर्थिक मदद यानी पांच सौ रुपये महीना उनके पर्याप्त नहीं है. केंद्र सरकार को किसानों के लिए कुछ बड़ा करना चाहिए था. किसानों के सम्मान के लायक. मगर यह बजट महज धोखा और दिशा हीन विकास विरोधी है. अंतरिम बजट में रोजगार को लेकर कोई उल्लेख नहीं करने पर सवाल उठाए. साथ ही कहा कि बजट मे रोजगार को लेकर कोई विशेष घोषणा नहीं की गई.